Home

6/recent

जून में पूर्वांचलवासियों को समर्पित हो जाएगा प्राणी उद्यान: सीएम योगी

जून में पूर्वांचलवासियों को समर्पित हो जाएगा प्राणी उद्यान: सीएम योगी गोरखपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि गोरखपुर में निर्माणाधीन शहीद अशफाक उल्लाह खॉ राजकीय प्राणी उद्यान गोरखपुर जून में पूर्वांचलवासियों को समर्पित कर दिया जाएगा। इसके साथ ही अत्याधुनिक प्रेक्षागृह का निर्माण भी कार्यदायी संस्था को युद्ध स्तर पर करने के निर्देश दिए गए हैं। जहां रंगकर्म और विकास एवं ज्वलंत समस्याओं के समाधान और संवाद के लिए मंच उपलब्ध होगा। इसके पूर्व उन्होंने प्राणी उद्यान एवं प्रेक्षागृह का निरीक्षण किया। उसके बाद मुख्यमंत्री ने अपने कार्यकाल में जिन परियोजनाओं का शिलान्यास किया, सर्किट हाऊस में अधिकारियों के साथ उनकी समीक्षा भी की। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को सर्किट हाऊस में मीडियाकर्मियों से मुखातिब थे। इसके पूर्व उन्होंने सर्किट हाऊस पहुंचन के साथ सबसे पहले निर्माणाधीन प्राणी उद्यान और अत्याधुनिक प्रेक्षागृह का निरीक्षण किया। उन्होंने बताया कि 35 प्रजातियों के 200 पशु-पक्षी को प्राणी उद्यान में स्थान मिलेगा। प्राणी उद्यान में मनोरंजन और ज्ञानवर्धन के लिए अन्य चीजों का इंतजाम होगा। आम नागरिकों को पशु-पक्षियों के निकट ले जाने के साथ उन्हें संरक्षण के लिए प्रेरित करने में सफलता मिलेगी। पूर्वी उत्तर प्रदेश में ऐसे उद्यान नहीं थे। योगी ने कहाक कि शहरी जीवन में लोगों का जुड़ाव प्रकृति और पशु-पक्षियों से कम हो गया है। ऐसे में यह प्राणी उद्यान गोरखपुर के साथ ही नेपाल, बिहार और पूर्वी उत्तर-प्रदेश के लोगों और पयर्टकों के लिए मनोरंजन का केंद्र बनेगा। बच्चों का अनुपम ज्ञानवर्धन करने के साथ उन्हें प्रकृति से जोड़ने का माध्यम भी बनेगा। जून में प्राणी उद्यान को गोरखपुरवासियों और पूर्वी उत्तर प्रदेश के वासियों को उपलब्ध करा देंगे। प्राणी उद्यान में पूर्वी उत्तर प्रदेश, नेपाल की तराई और पश्चिमी बिहार के पशु-पक्षी भी रखे जाएंगे। रंगकर्म और सामाजिक सरोकारों को बढ़ावा देने का मंच बनेगा प्रेक्षागृह सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि गोरखपुर और पूर्वी उत्तर प्रदेश के रंगकर्मियों के लिए एवं सामाजिक, सांस्कृतिक एवं विभिन्न ज्वलंत समस्याओं पर सेमिनार और कार्यशाला आयोजित करने के लिए आधुनिक प्रेक्षागृह का निर्माण जारी है। शासन से इसकी स्वीकृति हो चुकी है। कुछ कारणों से निर्माण में विलम्ब हुआ लेकिन अब कार्यदायी संस्था को युद्ध स्तर पर कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिए गए हैं। प्रेक्षागृह में 11 सौ सीट और 250 सीट का आडिटोरियम, मीडिया सेंटर और रंगकर्मियों के कैंटीन आदि की सुविधा प्रदान की जाएगी। प्रयास है कि प्रेक्षागृह से रंगकर्मियों और क्षेत्र के विकास और सामाजिक सरोकारों को आगे बढ़ाने का समर्थ मंच बने। रिपोर्ट: मोहम्मद यूसुफ