Home

6/recent

गरीबों और पिछड़ों के साथ निकाली यूथ के जिला अध्यक्ष ने पदयात्रा

समाजवादी विकास विज़न एवं समाजिक न्याय कार्यक्रम के तहत आज दिनांक 13 जनवरी 2019 को मो० आदिल ज़िला अध्यक्ष यूथ ब्रिगेड के नेतृत्व में असमोली विधानसभा ज़िला सम्भल के गोजनी, इकरोटिया आदि ग्रामो में पिछड़ा एवं दलित वर्गो के लोगो के साथ पदयात्रा एवं नुक्कड़ सभाए कर लोगो को समाजवादी सरकार द्वारा जनहित में किए गए कार्यों से एवं केंद्र एवं प्रदेश सरकार की जनविरोधी नीतियों के बारे में विस्तार से बताया। मो० आदिल ने कहा पिछड़े एवं दलित वर्ग के मेधावी छात्र / छात्राओं को ही आरक्षित सीमा के अंदर ही रखने का नियम बनाया। वर्तमान आरक्षण के नियम को ताक पर रखकर पिछड़े एवं दलित वर्ग को पूरा आरक्षण नही दिया जा रहा है। बैक-डोर से नियुक्ति करके पिछड़ा एवं दलित वर्ग को नियुक्तियों से बाहर करने की साजिश रची जा रही है। सरकारी कंपनियों का निजीकरण करके उद्योगपतियो को सौपा जा रहा है। निजीकरण हिने के बाद, सरकारी कंपनियों पर उद्योगपतियो का नियंत्रण हो जाएगा। उद्योगपति अपनी मर्ज़ी से नियुक्ति करेगे। ऐसा होने पर, पिछड़ा एवं दलितो को नौकरियों में आरक्षण से वंचित कर दिया जाएगा।
मो० आदिल ने कहा सपा बसपा गठबंधन लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में भाजपा का सफाया कर देगा। सभी लोग भाजपा की नीतियों से त्रस्त है लोगो मे भय पैदा करके राजनीत करना चाहती है। हम लोगो को इसका डटकर मुलाबला करना है केंद्र प्रदेश की सरकार ने पिछड़े और दलितों के साथ जो अत्याचार किया है हम सब एक साथ मिलकर वोट के माध्यम से बदला लेंगे। हर साल 20 लाख बच्चे भुखमरी का शिकार हो रहे है। 5 साल में 54 हज़ार महिलाएं बलात्कार की शिकार हुई। देश मे 20 करोड़ लोग रोजाना भूखा सोने पर मजबूर है। प्रतिदिन 7 हज़ार लोगो की भूख से मौते हुई। देश मे 7 करोड 80 लाख लोग बेघर हुए। हमको इनके बहकावे में नही आना है यह लोग हमारे आरक्षण को समाप्त करने के निरंतर प्रयास कर रहे है। इनसे और क्या उम्मीद की जा सकती है। केंद्र प्रदेश में ऐसा वातावरण बना दिया गया है ऐसा कभी नही हुआ। आपसी सदभाव को समाप्त करके राजनीतिक लाभ कमाने की भाजपा की मंशा कभी पूरा नही होगी। हम समाजवादी पार्टी और बहुजन पार्टी के लोग मिलकर इनकी जनविरोधी नीतियों को जन जन तक पहुचने का काम करेंगे। इस अवसर पर मुख्य रुप से नदीम हुसैन, मो० वासिफ, मो० कासिम, सज्जाद, मुन्ने, इस्लाम, हाजी खलील, भूरे शाह, रहीम शाह, सुदेश जाटव, शुएब नबी, अली शहज़ाद, गुलशन, धर्मपाल, नीलम, रमा देवी, भूरी, मुन्नी देवी, जगवती, भूदेव, रहीम, अनीस, इब्राहिम आदि मौजूद रहे।