Home

6/recent

चार परिवारों की गृहस्थी जलकर हुई ख़ाक , खुले आसमान के नीचे रहने को मजबूर हैं लोग...

भीटी तहसील क्षेत्र के बौरे मठिया गांव में चार परिवारों की गृहस्थी जलकर राख में तब्दील हो गई। ताजा मामला भीटी थाना क्षेत्र के बौरे मठिया गांव का है जहां विजय कुमार पुत्र अभय राज के यहां आज कथा वार्ता का कार्यक्रम था जिसकी वजह से खानपान आदि का भी आयोजन किया गया था। खाना बनते समय गैस सिलेंडर लीक हो जाने के कारण आकस्मिक रूप से आग ने प्रलयकारी रूप धारण कर लिया इस प्रलयकारी रूप में खाना बनाने के लिए वहां रखें दो और सिलेंडर भी आग की चपेट में आने से नहीं बच सके। भयंकर विस्फोट के साथ तीनों सिलेंडरों से उत्पन्न हुई आग भयानक रूप अख्तियार करते हुए 4 परिवारों की गृहस्थी को अपने आगोश में ले लिया। राम नारायण पुत्र रामाश्रय निवासी ग्राम बौरे मठिया व उसी गांव के निवासी विजय कुमार पुत्र अभय राज महंथु पाल पुत्र अभय नारायण व कलावती पत्नी अभय नारायण का घर आग की चपेट में आने से जलकर राख हो गया आनन-फानन में मौजूद ग्रामीणों ने इसकी सूचना अग्निशमन केंद्र को व भीटी थाना और राजस्व विभाग को दी जहां मौके पर तुरंत राजस्व टीम राजस्व निरीक्षक राम सुधार तिवारी के नेतृत्व में जिला अध्यक्ष लेखपाल संघ रामचरण दुबे और उस हलके के लेखपाल जितेंद्र कुमार यादव के साथ मौके पर तत्काल पहुंचे तो वही भीटी थानाध्यक्ष मनीष कुमार सिंह उप निरीक्षक हरिश्चंद्र के साथ मैंफोर्स घटनास्थल पर यथाशीघ्र पहुंचे। वहीं ग्रामीणों के द्वारा लगातार घंटी बजते रहने के बावजूद भी अग्निशमन केंद्र से कोई माकूल जवाब नहीं आयाऔर ना ही अग्निशमन की गाड़ी मौके पर पहुंची डेढ़ घंटे तक अग्नि ने प्रलय कारी रूप बनाए रखा ग्रामीणों के अथक प्रयास के बावजूद 4 परिवारों के गृहस्थी जलकर राख हो गई मौके पर पहुंचे राजस्व निरीक्षक ने जिला अध्यक्ष राम चरण दुबे के प्रयास से ₹500 प्रत्येक पीड़ित परिवार को अपने पास से प्रदान किए और उप जिलाधिकारी भीटी देवीदयाल बर्मा ने राजस्व निरीक्षक को दाल और आटा चावल उपलब्ध कराएं इसके साथ ही उप जिलाधिकारी ने ग्राम प्रधान व राजस्व निरीक्षक को निर्देशित किया है कि पीड़ित परिवारों को त्रिपाल टेंट या तंबू दिलवाने हेतु अविलंब उपलब्ध कराएं ग्राम प्रधान प्रतिनिधि विजय तिवारी ने कहा है कि कल तक सारी सुविधाएं पीड़ित परिवारों को मुहैया करा दी जाएंगी उप जिलाधिकारी भीटी देवीदयाल बर्मा ने बताया कि पीड़ित परिवारों को गृह अनुदान एवं आर्थिक सहायता प्रत्येक परिवार को ₹8000 यथाशीघ्र प्रदान की जाएगी।