Home

6/recent

छुट्टा पशुओं को किया गया गौशाला में बंद ,ग्रामीण आक्रोशित

आज़मगढ़ प्राथमिक विद्यालय से छुट्टा पशुओ को एसडीएम ने भेजा गौशाला ग्रामीणों से झड़प के बाद दो दिन से दर्जनों छुट्टा पशु स्कूल की चारदीवारी में है। बन्द स्कूल के 45 बच्चों को गांव के दूसरे स्कूल में पढ़ने को भेजा सगड़ी तहसील क्षेत्र के हरैया ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय जोकहरा प्रथम पर लगभग चार दर्जन से ऊपर पशुओं को ग्रामीणों ने विद्यालय की चारदीवारी के अंदर कर मुख्य गेट में ताला जड़ दिया था। और अध्यापक विद्यालय में बैठकर काम को निपटा रहे थे बच्चों की पढ़ाई बाधित हो रही थी उप जिलाधिकारी सगड़ी रावेंद्र सिंह विद्यालय पर पहुंचकर पुलिस प्रशासन और सफाई कर्मियों की मदद से गाड़ियों में लदवा कर पशुओं को गौशाला बघावर,रौनापार, चलाकपुर भेजवाया तो वही पशुओं को विद्यालय के अंदर छोड़ देने की को लेकर ग्रामीणों और उप जिलाधिकारी में काफी तीखी नोकझोंक हुई जिस पर उपजिलाधिकारी ने कहा कि ग्रामीणों के ऊपर मुकदमा दर्ज कर कर कार्रवाई की जाएगी। वहीं दूसरी तरफ 2 दिन से दर्जनों पशुओं को ग्रामीणों ने स्कूल की चारदीवारी के अंदर बंद कर देने से विद्यालय का पठन-पाठन पूरी तरह से बंद हो जाने से अभिभावक भी काफी पसोपेश में थे तो गुरुवार को 45 बच्चों को प्राथमिक विद्यालय जोकहरा द्वितीय पर पढ़ने के लिए स्थानांतरित कर दिया गया । विद्यालय पर कुल 54 छात्रों का नामांकन किया गया है। अध्यापक 2 दिन से विद्यालय तो आ रहे हैं पर दिन भर बैठ कर विद्यालय के अन्य कार्यों को निपटाने में लगे हैं। वहीं दूसरी तरफ किसानों में छुट्टा पशुओ को लेकर काफी आक्रोश व्याप्त है ।जिसकी मुख्य वजह है कि गांव के अगल-बगल के दर्जनों पशु अब तक गांव के लगभग 500 बीघा से ऊपर फसलों को नुकसान कर चुके हैं।जिसपर लोगों के अरहर,मटर,चना,गेहूं,आलू आदि की फसलों को भारी नुकसान हुआ है। जिसको देखते हुए ग्रामीणों में काफी आक्रोश व्याप्त है और ग्रामीणों ने शासन प्रशासन के प्रति काफी नाराजगी व्यक्त की है अगर पशुओं की व्यवस्था नहीं है तो उन्हें छुट्टा क्यों छोड़ दिया गया है। उसकी सरकार गांव के छुट्टा पशुओं को बाढ़ लगाकर व्यवस्था करें जिससे किसानों की फसलों को बचाया जा सके ।किसान पूरी तरह से इन छुट्टा पशुओं से परेशान हैं यहां तक कि ईश्वरचंद राय,श्यामसुंदर राय,सत्येंद्र,रामअजोर,रविंदर ,संतोष राय,सनवारी यादव,दिलराज,रघुराज,सुदामा राजभर,आदिने कहा कि गांव के हमारे लगभग 500 बीघा फसलों को अब तक पशु नुकसान कर चुके हैं । जिससे हमें काफी क्षति हो रही है।उपजिलाधिकारी सगड़ी ने ग्रामीणों द्वारा पशुओं को इस तरह से बंधक बनाए जाने से काफी नाराज दिखे जिसको लेकर ग्रामीणों से झड़प भी हुई। ग्रामीण छुट्टा पशुओं को लेकर काफी आक्रोशित है। उप जिलाधिकारी सगड़ी रावेंद्र सिंह ने कहा कि जो पशु हैं उन्हें विभिन्न गौशालाओं में भिजवा दिया गया जहां उनके खाने पीने की व्यवस्था की गई। उन्होंने कहा कि इस तरह से गांव वाले विद्यालय में 2 दिनों से जो पशुओं को बांधकर रखे हैं और मेरे सामने ही कई पशुओं को लाया कर इसमें रख रहे हैं यह ठीक नहीं।