Home

6/recent

अखिल भारतीय फार्मासिस्ट एसोसिएशन की भूख हड़ताल पांचवे दिन रही जारी

अखिल भारतीय फार्मासिस्ट एसोसिएशन व फार्मासिस्ट फाउंडेशन के बैनर तले आज पांचवे दिन भी अनवरत भूख हड़ताल चल रही है। भूख हड़ताल के समर्थन में वाराणसी मंडल के पदाधिकारी, भदोही जनपद, मिर्जापुर मंडल से अयोध्या मंडल के पदाधिकारियों ने अपने साथियों के साथ पहुंचकर भूख हड़ताल का समर्थन किया भूख हड़तालियों को समर्थन देने हेतु आज अखिल भारतीय फार्मासिस्ट एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष शशि भूषण सिंह ,भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश महासचिव पीयूष सिंह जी, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के विभाग संगठन मंत्री आयुष्मान सोनकर अपने संगठन के सदस्यों के साथ पहुंचकर खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग के भ्रष्टाचार के विरूद्ध आवाज उठाते हुए कहा कि विगत 5 दिनों से लोग भूख हड़ताल पर बैठे हैं।किंतु शासन-प्रशासन एकदम निरंकुश बने हुए  हैं। 



माननीय उच्च न्यायालय के आदेशों को भी शासन-प्रशासन नहीं मानते हुए विगत ढाई वर्षों से उसे दबा कर उसका अनुपालन नहीं करवा रहा है। भारतीय संसद द्वारा पारित एक्ट फार्मेसी एक्ट 1945 का ड्रग एंड कॉस्मेटिक एक्ट 1948 का अनुपालन नहीं किया जा रहा है। राष्ट्रीय अध्यक्ष शशिभूषण ने बताया कि उच्च न्यायालय के आदेशों को दरकिनार कर अवैध रूप से जनपद व मंडल में अवैध मेडिकल स्टोर का संचालन औषधि निरीक्षक मनु शंकर अपने संरक्षण में संचालित करवाने का कुकृत्य कर रहे हैं।
2 वर्ष पहले भी इस भ्रष्ट औषधि निरीक्षक
मनुशंकर के विरुद्ध धरना प्रदर्शन करके कार्रवाई किए जाने हेतु तत्कालीन मंडलायुक्त देवीपाटन मंडल व अपर जिलाधिकारी गोंडा द्वारा इनके विरुद्ध कार्रवाई हेतु आश्वासन भी दिया गया था। किंतु दुर्भाग्य रहा कि आज तक इनके विरूद्ध कोई भी कार्रवाई नहीं की गई।भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश महासचिव ने बताया कि आम जनमानस के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए व समाज को नकली, और आधौमानक स्तर की दवाओं से बचाने के लिए ही खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग का गठन हुआ था। जिसका मुख्य अध्यक्ष जनपद का जिला अधिकारी होता है। यदि जिला अधिकारी के अधीन कार्यरत औषधि निरीक्षक मनुशंकर अवैध मेडिकल स्टोरों को अपने संरक्षण में संचालित करवाते हैं तो इसके जिम्मेदार जिलाधिकारी महोदय भी होते हैं। भूख हड़ताल पर बैठे हुए 5 दिनों से
अनवरत कुलदीप मणि त्रिपाठी मंडल अध्यक्ष देवीपाटन मंडल ने बताया कि जब तक शासन प्रशासन सभी बिंदुओं पर लिखित आदेश करते हुए कार्रवाई शुरू नहीं करती है। तब तक यह भूख हड़ताल अनावरत चालू रहेगा।भूख हड़तालियों के समर्थन में आए हुए विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों ने प्रशासन और शासन को चेतावनी देते हुए सचेत किया कि यदि जो संगठन के सदस्य भूख हड़ताल पर पिछले 5 दिनों से बैठे हैं। उनके स्वास्थ्य के साथ कोई अप्रिय घटना घटती है तो इसकी समस्त जिम्मेदारी शासन व प्रशासन की होगी।
जल्दी अगर मांगों पर उचित कार्यवाही हेतु आदेश जारी करते हुए कार्य शुरू नहीं किया गया व भ्रष्ट औषधि निरीक्षक मनुशंकर को निलंबित नहीं किया गया तो यह आंदोलन पूरे प्रदेश  के बाहर भी किया जाएगा।