Home

6/recent

उत्तर प्रदेश बना पहला राज्य जहाँ फ्री में दी जाएगी वैक्सीन

x States »

 

उत्तरप्रदेश  फ्री दी जाएगी कोविशिल्ड

 

टीकाकरण में तेज़ी मुख्यमंत्री आदेश 

खनऊ; उत्तर प्रदेश सरकार ने 50-50 लाख के डोज का ऑर्डर कोविशिल्ड और कोवैक्सीन बनाने वाली स्वदेशी कंपनियों को दे दिया है।

उत्तर प्रदेश पहला ऐसा राज्य है जिसने सबसे पहले कोविड वैक्सीन फ्री दिए जाने का निर्णय लिया था। जिसके बाद अब महाराष्ट्र, केरल, छत्तीसगढ़, बिहार और कई अन्य राज्य मुफ्त में टीका देने का निर्णय कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि सरकार अपने संसाधनों से टीकाकरण कार्यक्रम को तेजी से आगे बढ़ाएगी। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग को वैक्सीनेशन अभियान व्यापक स्तर पर संचालित करने को कहा है। यही नहीं प्रदेश सरकार ने डोज की आवश्यकता का आंकलन कर आपूर्ति के प्रबंध करने के लिए भी स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दे दिया है। इसके साथ ही प्रदेश में वैक्सीनेशन केंद्रों को बढ़ाने को लेकर भी मुख्यमंत्री ने निर्देश दे दिये हैं। वहीं इस बार वैक्सीनेशन का कार्यक्रम प्रदेश की बड़ी-बड़ी कंपनियों के दफ्तरों में भी चलाया जाएगा।

प्रदेश सरकार ने निर्णय लिया है कि जिन लोगों को वैक्सीन की पहली डोज मिल चुकी है। उन्हें वैक्सीन की दूसरी डोज की व्यवस्था भी तेजी में सुनिश्चित की जाएगी। इसके लिए सरकार अब खुली जगह में कैंप लगाने की व्यवस्था कर रही है। ताकि लोगों में संक्रमण का डर न बैठें। बता दें कि पिछले कई दिनों से लोगों में इस बात को लेकर संशय था कि अस्पतालों में वैक्सीनेशन के दौरान कहीं वो संक्रमित न हो जाए, जिसके बाद प्रदेश सरकार ने यह फैसला लिया है।

संक्रमण के प्रभाव को कम करने के लिए प्रदेश में वैक्सीनेशन का कार्यक्रम तेजी में चल रहा है। प्रदेश में अब तक कुल एक करोड़ 17 लाख 77 हजार 209 वैक्सीन के डोज दिए जा चुके हैं। इसमें कुल 97 लाख 79 हजार 846 वैक्सीन की पहली डोज और 19 लाख 97 हजार 363 दूसरी डोज शामिल है।

संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एसजीपीजीआई) के डायरेक्टर डॉ आरके धीमान ने बताया कि टीकाकरण कराने से हम लोग अस्पताल में भर्ती होने से बच सकते हैं। यही नहीं इससे मौत की दर भी घट जाती है। ऐसे में हमे वैक्सीन लेना बहुत जरुरी है। उन्होंने बताया कि होली से तीन दिन पहले उनको और उनकी पत्नी को कोरोना हो गया था। लेकिन उन पर संक्रमण का प्रभाव ज्यादा नहीं रहा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ