Home

6/recent

मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और कर्नाटक के बाद अब दिल्ली की बारी ?

बीजेपी मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र में विधायकों की खरीद-फरोख्त करके सरकार बना चुकी है... बीजेपी का मिशन दिल्ली पर नजर है दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल बीजेपी के लिए मुसीबत बनते जा रहे हैं... अरविंद केजरीवाल की बढ़ती लोकप्रियता से बीजेपी घबरा गई है... देश ही नहीं पूरी दुनिया में दिल्ली के शिक्षा मॉडल को अपनाया जा रहा है शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया की पूरी दुनिया में तारीफ कर रही है... दिल्ली मॉडल के आधार पर ही अरविंद केजरीवाल ने पंजाब में भी सरकार बनाई... धीरे-धीरे अरविंद केजरीवाल की बढ़ रही लोकप्रियता से बीजेपी को खतरा लगने लगा है.. अब ऐसे में बीजेपी दिल्ली में सरकार गिराने की तैयारी कर रही है... हम आपको आगे बताएंगे कि हम ऐसा क्यों कह रहे...  



दरअसल दिल्ली में सीएम अरविंद केजरीवाल के घर पर आप के सभी विधायकों को मीटिंग बुलाई गई थी...आम आदमी पार्टी का आरोप है कि बीजेपी उनके 40 विधायकों को तोड़ने की कोशिश कर रही है... जिसके बाद पार्टी ने सभी विधायक को दलीय बैठक में शामिल होने के लिए सीएम आवास बुलाया...भाजपा द्वारा आप के विधायकों को 20 करोड़ देकर तोड़ने का आरोप लगाने के बाद दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने पार्टी के सभी विधायकों को अपने आवास पर तत्काल बैठक करने के लिए बुला लिया...इस दलीय बैठक में आप के 53 विधायक शामिल हुए थे... बाकी के 8 विधायक बैठक में नहीं आए...


आम आदमी पार्टी का आरोप है जी बीजेपी उन के 40 विधायकों को तोड़ने की कोशिश कर रही है... उनके विधायकों को 20-20 करोड़ रुपए ऑफर किए गए...बता दें कि भाजपा पर विधायकों की खरीद फ़रोख़्त का यह आरोप पहली दफ़ा नहीं लगा है... बीजेपी कई अन्य राज्यों में ऐसी हरक़त कर चुकी है...अभी हाल ही में महाराष्ट्र की महाविकास अघाड़ी सरकार के शिवसेना विधायकों को तोड़कर अपने पाले में ले आकर भाजपा नई शिवसेना के नेतृत्व में सरकार बना चुकी है...ऐसे ही मध्यप्रदेश, कर्नाटक में बीजेपी ने विधायकों को खरीद फ़रोख़्त कर सरकारें गिरा चुकी है...


दिल्ली में भाजपा द्वारा आप विधायकों को खरीदने की खबरें जब से सामने आयी है... आम आदमी पार्टी बहुत सजग होकर अपने विधायकों की निगरानी में लग गई है...आप द्वारा ये सवाल किया जा रहा है कि इनके 40 विधायकों को खरीदने के लिए बीजेपी 800 करोड़ रूपये कहाँ से ला रही है? इसकी भी ईडी से जाँच होनी चाहिए.. अब यह पूरा मामला मनीष सिसोदिया पर चल रही छापेमारी से हटकर बीजेपी के खरीद-फरोख्त पर आकर टिक गया है...हालांकि बीजेपी के नेता इस बात पर सफाई देते फिर रहे हैं कि हमने आम आदमी पार्टी के किसी भी विधायक से कोई संपर्क नहीं किया है...

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ