Home

6/recent

दो बाइकों की टक्कर से दो की मौत, महिला और बच्चा गंभीर रूप से घायल

दो बाइकों की टक्कर से दो की मौत, महिला और बच्चा गंभीर रूप से घायल

हादसे के बाद सड़क पर गंभीर रूप से घायल पड़े बाइक सवार।नरैनी थाना क्षेत्र में हुई घटना

बांदाः जिले के नरैनी थाना क्षेत्र में मंगलवार को बांदा-नरैनी रोड पर ग्राम बासी देवरार के पास कुछ देर पहले दो बाइकों की टक्कर हो गई। टक्कर इतनी तेज थी कि बाइक सवार उछलकर दूर जा गिरे। बाद में दो लोगों ने दम तोड़ दिया। मृतकों की पहचान नरैनी के शंकर बाजार निवासी पप्पू सोनी तथा कंधौली निवासी छोटा यादव के रूप में हुई है।घायलों को अखिल भारती ब्राह्मण एकता परिषद के अध्यक्ष राजेश पांडे ने एंबुलेंस बुलाकर अस्पताल भिजवाया। साथ ही पुलिस को भी सूचना दी। बताते हैं कि छोटा यादव नाम का व्यक्ति शराब के नशे में धुत्त होकर नरैनी से बांदा की ओर बाइक से आ रहा था।




नशे में धुत्त होकर चला रहा था बाइक 
उसकी बाइक पर साथ में उसका 7 साल का बेटा भी बैठा था। इस दौरान रास्ते में उसकी हालत देखकर कुछ बुद्धिजीवियों ने उसे शराब पीकर बाइक न चलाने की सलाह दी। इसपर छोटा यादव उनकी बात से सहमत नहीं हुआ और यह कहकर बाइक लेकर चला गया कि उनसे क्या मतलब।इसके बाद आगे जाकर बांसी देवरार गांव के पास सामने से बाइक से आ रहे नरैनी के शंकरबाजार निवासी पप्पू सोनी और उनकी पत्नी को टक्कर मार दी। टक्कर इतनी तेज थी कि बाइक पर बैठे पप्पू सोनी और उनकी पत्नी उछलकर दूर जा गिरे। तभी आसपास के लोग दौड़कर वहां पहुंचे। इसी दौरान श्री पांडे ने लोगों के सहयोग से घायलों को संभाला और उनको इलाज के लिए एंबुलेंस बुलाकर अस्पताल भिजवाया।
कोई नहीं पहने था हैलमेट 
अस्पताल में चिकित्सकों ने पप्पू सोनी और छोटा यादव को देखते ही मृत घोषित कर दिया। मौके पर पहुंची पुलिस हालात को संभाला। पुलिस का कहना है कि शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। उधर, घायल हालत में रोते-रोते छोटा यादव के बेटे ने बताया कि वह कंधौली गांव के रहने वाले हैं।
ब्राह्मण परिषद के श्री पांडे का कहना है कि बाइक सवार छोटा यादव नशे में था और उसे गांव के लोगों के साथ-साथ उन्होंने भी संमझाया कि ऐसे में बाइक चलाना खतरनाक हो सकता है लेकिन वह नहीं माना। दुख की बात यह है कि हादसे में दो लोगों की मौत हो गई। इन दोनों ही बाइकों के सवार लोग हैलमेट नहीं पहने हुए थे। लोगों का कहना है कि अगर दोनों लोग हैलमेट पहने होते तो शायद उनकी जान बच जाती। लोगों का कहना है कि इतनी जागरूकता फैलाने के बाद भी लोग अपनी सुरक्षा नहीं कर रहे हैं।

बाँदा से इमरान खान की रिपोर्ट