Home

6/recent

शिकायत का सज्ञान लेकर शासन ने जिला पंचायत के 5 अधिकारियों को किया निलंबित

कौशांबी ज़िला पंचायत के अपर मुख्य अधिकारी रणमत सिंह समेत पांच अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया। सभी ने रिश्वत नहीं मिलने के कारण गलत आरोप लगाकर एक फर्म का भुगतान रोक दिया था। फर्म के ठेकेदार की शिकायत पर जांच के बाद आरोपों की तस्दीक होने पर राज्यपाल से स्वीकृति लेने के बाद पंचायती राज के अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह ने कार्रवाई की है। निलंबत आदेश प्राप्त होने के बाद समूचे जिला पंचायत कार्यालय में हड़कंप मच गया।


प्रयागराज शहर निवासी कुलदीप की पत्नी सुषमा सिंह ने मे. चित्रा कांस्ट्रक्सन फर्म बना रखी है। पिछले सत्र में फर्म ने जिला पंचायत कौशांबी से टेंडर लेकर तकरीबन एक करोड़ से ज्यादा लागत वाली आधा दर्जन परियोजनाओं का निर्माण कार्य कराया था। फर्म संचालिका सुषमा सिंह के पति का आरोप है कि जिला पंचायत के अपर मुख्य अधिकारी रणमत सिंह, सहायक अभियंता अखिलेश्वर मल्ल, अवर अभियंता हिमांशु यादव, मनीष कुमार व सुशील कुमार ने रिश्वत नहीं मिलने के कारण गलत आरोप लगाकर उसका 70 फीसदी भुगतान रोक दिया था। फर्म संचालिका ने इस बाबत शासन से शिकायत कर दी। इस संबंध में साक्ष्य स्वरूप फर्म संचालिका ने सीडी/रिकॉर्डिंग भी उपलब्ध कराई। शिकायतों की जांच में अपर मुख्य अधिकारी, सहायक अभियंता तथा अवर अभियंताओं समेत पांचों अफसरों पर आरोपों की तस्दीक हुई। इस पर प्रकरण को गंभीरता से लेते हुए अपर मुख्य सचिव पंचायती राज मनोज कुमार सिंह ने सभी पांचों अफसरों को निलंबित कर दिया। इस निलंबन से अधिकारियों में हड़कम्प मचा हुआ हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ