Home

6/recent

विधानपरिषद नेता प्रतिपक्ष अहमद हसन का आकस्मिक निधन

 अंबेडकरनगर ,दिनेश वर्मा,नया सवेरा नयी खुशियां लेकर आता है । मगर होनी को कौन टाल सकता है । दोपहर लगभग 11:00 बजे सरल स्वभाव के व्यक्तित्व वाले महान राजनीतिज्ञ अहमद हसन का लंबी बीमारी के दौरान डॉ राम मनोहर लोहिया अस्पताल में निधन हो गया। उनके निधन की खबर सुनते ही पूरे प्रदेश में शोक की लहर दौड़ पड़ी ।समाजवादी पार्टी सहित समस्त राजनीतिक दलों के नेताओं ने उनके निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है ।16 दिसंबर 2021 को सीने में दर्द होने की शिकायत पर केजीएमयू के लारी कार्डियोलॉजी विभाग में भर्ती कराया गया था । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ किंग जार्ज मेडिकल विश्वविद्यालय मेंउनका हालचाल जानने के लिए गये हुए थे । लगभग 1 सप्ताह पूर्व के ,जी ,एम ,यू ,से डॉ राम मनोहर लोहिया हॉस्पिटल लखनऊ के क्रिटिकल केयर यूनिट में भर्ती कराया गया था । 



जहां उन्होंने आज दोपहर लगभग 11:00 बजे अंतिम सांस ली ।दिवंगत नेता समाजवादी पार्टी में स्वास्थ्य व शिक्षा मंत्री के पद पर रहकर स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार किया। उदारवादी समाजवादी नेता विधान परिषद  में नेता प्रतिपक्ष भी रहे ।उनका जन्म 2 जनवरी 1934 में अंबेडकर नगर के तहसील जलालपुर के दलाल टोला में हुआ था । इनके पिता एक बिजनेसमैन के साथ मशहूर धार्मिक विद्वान भी थे। इलाहाबाद विश्वविद्यालय से इन्होंने कानून की पढ़ाई की और बाद में इन्होंने यूपीएससी की परीक्षा पास करने के उपरांत भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी बने। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव ने  समाजवादी पार्टी  की सदस्यता दिलाई थी । डॉ राम मनोहर लोहिया के विचारों से काफी प्रभावित रहे। प्रशासनिक सेवा से सेवानिवृत्त होने के उपरांत 1994 में इन्हें उत्तर प्रदेश अल्पसंख्यक आयोग का चेयरमैन नियुक्त किया गया 1997 में विधान परिषद के नेता प्रतिपक्ष बने 2003 में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के मंत्री रहे 2012 में स्वास्थ्य मंत्री और 2015 में वह शिक्षा मंत्री बने 2017 से अब तक विधान परिषद नेता प्रतिपक्ष रहे। उनके निधन से अंबेडकर नगर जनपद के समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ राजनेता एवं टांडा विधानसभा के प्रत्याशी राममूर्ति वर्मा ने गहरा दुख व्यक्त किया है उन्होंने अपने संदेश में कहा है कि हम लोगों ने एक महान राजनेता खो दिया है जिसकी भरपाई होना मुश्किल है स्वास्थ्य और शिक्षा जगत में उन्होंने जो सराहनीय कार्य किया है वह सदैव भुलाया नहीं जा सकता।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ