Home

6/recent

आज़मगढ़ में, दलितों पर हुआ अत्याचार फर्जी रिपोर्ट की गयी दर्ज

आज़मगढ़  कप्तानगंज थाने के वाजिदपुर गांव के दलितों को मारपीट में घायल कर फर्जी रिपोर्ट दर्ज करने को लेकर लामबंद हो गये काफी संख्या में ग्रामीणों ने एसपी कार्यालय पर पहुंचकर प्रदर्शन किया और ज्ञापन सौंपा साथ ही न्याय की गुहार लगायी तो एसपी ने कार्रवाई का आश्वासन दिया।




सपा के निवर्तमान जिलाध्यक्ष हवलदार यादव व सामाजिक कार्यकर्ता डॉ रविन्द्र नाथ राय पूर्व प्रधानाचार्य के नेतृत्व में कप्तानगंज थाने के वाजिदपुर गांव के डेढ़ सौ दलित पुरुष व महिलाएं एसपी कार्यालय पर पहुंचे। हवलदार यादव ने कहाकि वाजिदपुर गांव में 18 फरवरी को अनुसूचित जाति की आबादी की जमीन पर दबंगों द्वारा कब्जा किया जा रहा था ऐसा करने से रोकने पर अनुसूचित जाति के लोगों को तमंचे से फायर किया गया, जिसमें दो लोगों को गोली लगी। एक की हालत गंभीर होने पर डाक्टर ने वाराणसी रेफर कर दिया, जहां पर उसका इलाज चल रहा है। इसके बाद दबंगों ने हरिजन बस्ती पर हमला बोलकर उनके मकान पर रखे टिनशेड, हैंडपंप व नवनिर्मित शौचालय को भी तोड़ दिया है।




 विरोध करने पर ईट पत्थर से मारा गया, जिसमें एक लड़के को सिर में चोट लगी। वह सदर अस्पताल में भर्ती है तथा अन्य को भी चोटें आई है। राजनीतिक दबाव में पुलिस ने 12 दलितों के विरूद्ध 307 की फर्जी रिपोर्ट दर्ज कर दो लोगों का चालान कर दिया। साथ ही दलितों को धमकियां दी जा रही है। उन्होंने कहाकि भाजपा नेताओं के आगे अधिकारी हथियार डाल दिये हैं। सपा अन्याय के विरूद्ध पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए लड़ाई लडे़गी। इसके बाद ग्रामीणों ने एसपी को मांगों का ज्ञापन सौंपा तो उन्होंने कार्रवाई का आश्वासन दिया।